Header Ads

दिल मे मेरे जख्मों के श्मशान छोड़ गया ......

दिल मे मेरे जख्मों के श्मशान छोड़ गया !!
वो तूफ़ां जो मेरे करीब से होकर गुजर गया !
दिल मे मेरे जख्मों के श्मशान छोड़ गया !!

दरख़्त चिल्लाते रहे बचाने को अपनी आरजू !
एक तूफ़ां पेड़ के सारे पत्ते टहनी तोड़ गया !!

हम जमाने मे लड़ते रहे मंदिर मस्जिद !
वक्त हमारे हाथ के हर ख्वाब तोड़ गया !!

तिरेंगे में लिपट कर आ रहे है माँ बहनों के अरमान !
सियासत कितने घरों का जमीं आसमान फोड़ गया !!

जमाने को दिखाने को है उनकी आंखों में आंसू !
मुहँ फेरते ही वो आंखों पे काला चश्मा ओढ़ गया !

वतन परस्तों को वतन से बढ़ कर क्या !
नेता फिर कैसे धन से रिश्ता जोड़ गया !!

जिस देश की बेटी सड़कों पे रोज होती हो बेआबरू !
उस देश के कर्णधार कैसे अपने दरवाजे मोड़ गया !!

*****************************










@प्रदीप सुमनाक्षर
  Delhi, India

2 comments:

  1. इस सम्मान के लिए बहुत बहुत आभार

    ReplyDelete

Powered by Blogger.