Sunday, 22 October 2017

॥ जान की सुरक्षा॥

Posted by मंगलज्योति at October 22, 2017 0 Comments


Indian Railway
अपने सामान की स्वंय रक्षा करें।
जान की उससे ज्यादा सुरक्षा करें।
ट्रेन का लेट होना अजूबा नहीं
आज भी लेट है अब प्रतीक्षा करें।
अपने स्तर से ज्यादा न सोचें कभी
दायरे में है जिस, उतनी इच्छा करें।
धारणा पहले ही मत बना लिजीये
पहले वस्तु स्थिति की समीक्षा करें।
असल और नकल को परखने के लिए
कस कसौटी पर विधिवत परीक्षा करें।
हैं धनुर्धर बड़े आप इस देश के
पात्र ही देखकर उसकी दीक्षा करें।
मांगने वाले जो, होते मजबूर हैं
देख 'खेतान' उनको ही भिक्षा करें।

......................................
कवि:- Jagdish Khetan Ji

आप भी अपनी कविता, कहानियां ,लेख अन्य रोचक तथ्य हमसे फेसबुक /ट्विटर ग्रुप में शेयर या
इस Email👉 mangaljyoti05@outlook.com पर भेज सकते हैं !

अपडेट प्राप्त करे

नए लेख के लिए सब्सक्राइब करिये ,हम कभी भी आपका ईमेल पता साझा नहीं करेंगे.

0 comments:

समाज उत्थान हेतु दान पात्र

Subscribe

Archive

Translate

Views

Copyright©2017 All rights reserved मंगलज्योति

back to top