Tuesday, 30 January 2018

सबके हित शुभ उद्गार लिये ....

Posted by मंगलज्योति at January 30, 2018 0 Comments

सबके हित शुभ उद्गार लिये जीता हूँ।
कोमल भावों में प्यार लिये जीता हूँ।
सबके हित शुभ उद्गार लिये जीता हूँ।
भोर चिरैया चहचह चहके,
साँझ लौट घर आये।
दिनभर नीलगगन में बिचरे,
नरम पंख फैलाये।
ना हाथ गुलेल, कटार लिये जीता हूँ।
सबके हित शुभ उद्गार लिये जीता हूँ।
मेरी बेटी नित है कहती-
'पापा जल्दी आना।'
पत्नी तकती राह शामको,
लेकर पानी- खाना।
उनकी खातिर सब भार लिये जीता हूँ।
सबके हित शुभ उद्गार लिये जीता हूँ।
बालक था, जब समझ नहीं थी,
कुछ ना मैं बोला था।
माँ कहती थी, माँ ही कहते,
मैंने मुँह खोला था।
माँ की ममता सौ बार लिये जीता हूँ।
सबके हित शुभ उरगार लिये जीता हूँ।
पीड़ाओं को सहते- सहते,
सारी उमर गुजारी।
हाथ न फैले कभी, कहीं, ना
बतलाई दुश्वारी।
उनको वन्दन, सत्कार लिये जीता हूँ।
सबके हित शुभ उद्गार लिये जीता हूँ।
>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>
संगीत सुभाष
गोपालगंज इंडिया 

आप भी अपनी कविता, कहानियां ,लेख अन्य रोचक तथ्य हमसे फेसबुक /ट्विटर ग्रुप में शेयर या
इस Email👉 mangaljyoti05@outlook.com पर भेज सकते हैं !

अपडेट प्राप्त करे

नए लेख के लिए सब्सक्राइब करिये ,हम कभी भी आपका ईमेल पता साझा नहीं करेंगे.

0 comments:

समाज उत्थान हेतु दान पात्र

Subscribe

Archive

Translate

Views

Copyright©2017 All rights reserved मंगलज्योति

back to top