Sunday, 27 May 2018

एक दिया आंधियों में जला कर देखूं

Posted by मंगलज्योति at May 27, 2018 0 Comments



एक दिया आंधियों में जला कर देखूं 
एक दिया आंधियों में जला कर देखूं 
जानता हूँ बुझेगा फिर भी सुलगा कर देखूं।।

मालूम है मुझे तूफ़ां आने वाला हैं 
चलो सागर में किश्ती चला कर देखूं।।

आंधियां इस ओर आती है तो आने दो 
आंधियो से नजरें दो चार कर देखूं।।

जलजले जब तक न जल जाए हौंसलों से 
तब तलक जलजलों से जान लड़ा कर देखूं।।

सुना हैं ईश्क़ जान ले लेता है अक्सर 
मैं भी इश्क मे खुद को न्यौछावर कर देखूं।।

मालूम है वो ईश्क़ की हामी ना भरेंगें 
कदमो में फिर भी अर्जी एक लगा कर देखूं।।

ओर देखना क्या है बस उन्हें देखना है 
उन्हें देख देख कर देख कर देखूँ।।

ईश्क़ किसे कहते है मुझे क्या मालूम 
उन्हें पाने में खुद को भुला कर देखूं।।

मैं क्या मेरी हस्ती क्या जो मिटा दे कोई 
मैं खुद को हरवक्त महफूज उसके साये में देखूं।।

**********************










कवि प्रदीप सुमनाक्षर
  दिल्ली,इंडिया 


आप भी अपनी कविता , कहानियां , लेख हमें लिख भेजिए !

आप भी अपनी कविता, कहानियां ,लेख अन्य रोचक तथ्य हमसे फेसबुक /ट्विटर ग्रुप में शेयर या
इस Email👉 mangaljyoti05@outlook.com पर भेज सकते हैं !

अपडेट प्राप्त करे

नए लेख के लिए सब्सक्राइब करिये ,हम कभी भी आपका ईमेल पता साझा नहीं करेंगे.

0 comments:

समाज उत्थान हेतु दान पात्र

Subscribe

Archive

Translate

Views

Copyright©2017 All rights reserved मंगलज्योति

back to top