Friday, 14 December 2018

उभरते तकनीकों के हानिकारक परिणाम

Posted by मंगलज्योति at December 14, 2018 0 Comments

उभरते तकनीकों के हानिकारक परिणाम 
कुछ साल पहले मोबाइल फोन केवल 2G नेटवर्क पर ही कार्यरत थे लेकिन सूचना प्रधौगिकी के क्षेत्र में हुए विकास ने स्मार्टफोन को 3G, 4G और 5G नेटवर्क से लैस कर दिया है। लेकिन अब स्मार्टफोन की बदलती नेटवर्क क्षमता के दुष्परिणाम भी सामने आने लगे है। नेशनल टॉक्सिकोलॉजी प्रोग्राम(National Toxicology Program) में कार्यरत शोधकर्ताओं ने अपनी रिपोर्ट में स्पस्ट रूप से उल्लेख किया है की 2G, 3G और 4G स्मार्टफोन से निकलने वाले रेडियो आवृत्ति विकिरण कैंसर और ट्यूमर को विकसित कर सकते है। चूहों पर किये गए शोध में यह देखा गया है की रेडियो आवृत्ति विकिरण न सिर्फ चूहों में ट्यूमर को बढ़ाते है बल्कि कैंसर और मस्तिस्क ट्यूमर को भी जन्म देते है।

एनटीपी के सीनियर वैज्ञानिक जॉन बुचर(John Bucher) ने कहा “अध्ययनों में इस्तेमाल किए गए एक्सपोजर की तुलना सीधे उन एक्सपोजर से नहीं की जा सकती है जो सेल फोन का उपयोग करते समय सामान्य व्यक्ति अनुभव करता है। लेकिन स्मार्टफोन इस्तेमाल करने के तरीके जैसे की नेटवर्क स्तर, इस्तेमाल की अवधि, स्मार्टफोन से दूरी ये सभी कारक भी प्रभावों पर असर डालता है। हमनें शोध में प्रत्यक्ष रूप से पाया है की रेडियो आवृति विकरण चूहों के लिए घातक साबित होता है।”

एनटीपी शोधकर्ता पिछले 10 वर्षों से 2G, 3G और 4G सेलफोन में इस्तेमाल होने वाले नेटवर्क क्षमता और रेडियो आवृति विकरण के संपर्क में आने वाले जानवरों में स्वास्थ्य प्रभावों का अध्ययन कर रहे थे। हालांकि 2G और 3G के मानक निर्धारित किया गया है और आज भी इन मानकों का पालन किया जाता है लेकिन शोधकर्ता मानते है की इन मानकों का फिर से आंकलन किया जाना चाहिए।

एनटीपी शोधकर्ताओं ने इस शोध अध्ययन से मिलने वाले सबूत को संक्षेप में सारांशित करने के लिए चार श्रेणियों में बाँट दिया है। यहाँ स्पस्ट उल्लेख मिलता है की किस श्रेणी की विकर्रण कैंसर का कारण बन सकता है।
एक अन्य शोधकर्ता वाइड(Wyde) ने कहा “इन शोध अध्ययन में वाई-फाई या 5G नेटवर्क के लिए उपयोग किए जाने वाले रेडियो आवृति विकरण को शामिल नही किया गया है न ही किसी प्रकार की जांच इन नेटवर्को की गयी है।

5G एक उभरती हुई तकनीक है जिसे अभी तक वास्तव में परिभाषित नहीं किया गया है। जो हम वर्तमान में समझते है वास्तविक परिणाम उससे नाटकीय रूप से भिन्न भी हो सकते है।”

*********************
Avatar
      पल्लवी कुमारी
    बोधगया , इंडिया

आप भी अपनी कविता, कहानियां ,लेख अन्य रोचक तथ्य हमसे फेसबुक /ट्विटर ग्रुप में शेयर या
इस Email👉 mangaljyoti05@outlook.com पर भेज सकते हैं !

अपडेट प्राप्त करे

नए लेख के लिए सब्सक्राइब करिये ,हम कभी भी आपका ईमेल पता साझा नहीं करेंगे.

0 comments:

समाज उत्थान हेतु दान पात्र

Subscribe

Archive

Translate

Views

Copyright©2017 All rights reserved मंगलज्योति

back to top