Thursday, 14 March 2019

चरित्रहीन थी वो

Posted by मंगलज्योति at March 14, 2019 0 Comments

चरित्रहीन थी वो
चरित्रहीन थी वो
क्योंकि उसने किया था अर्पण
खामोशी से छूआ था उसके स्नेह को
और पल-भर में हो गई वो चरित्रहीन..

पलक झपकना और महसूस करना
उसके प्रेम को अपने अतंरआत्मा में
निश्छल हो कर हर बार की तरह
इस बार भी उसने किया था मग्न होकर 
उसका आलिगंन
और बस हो गई वो चरित्रहीन...

कुमकुम की लालिमा की तरह
सजने लगा उसका चितवन
चमकने लगा उसके ललाट पर
उसका प्रेम
हर पल में सौदर्य मानों 
अपने यौवन की सीमा पार करने लगी
किया उसने अपने सौदर्य में
उसका अंगिकार
और बस हो गई वो चरित्रहीन...

प्रेम को आखिर कब मिला है 
चरित्रवान होने का गौरव?
औरत ने जितनी बार मर्द को चाहा
उतनी बार चरित्रहीन कहलाई...

प्रेम तो खुद ही ईश्वर ने किया
फिर वो क्यूं नही चरित्रहीन?
प्रेम सर्वदा रहा प्रेम
मगर औरत ने किया तो कहलाई
" वो थी चरित्रहीन "
******************
Avatar
         स्निग्धा रूद्र 
      धनबाद , इंडिया 

आप भी अपनी कविता, कहानियां ,लेख अन्य रोचक तथ्य हमसे फेसबुक /ट्विटर ग्रुप में शेयर या
इस Email👉 mangaljyoti05@outlook.com पर भेज सकते हैं !

अपडेट प्राप्त करे

नए लेख के लिए सब्सक्राइब करिये ,हम कभी भी आपका ईमेल पता साझा नहीं करेंगे.

0 comments:

समाज उत्थान हेतु दान पात्र

Subscribe

Archive

Translate

Views

Copyright©2017 All rights reserved मंगलज्योति

back to top