Header Ads

पैसा बोलता है

पैसा बोलता है 
पैसा बोलता है 
रिश़्तों के हर राज़ खोलता है
सच है कि
पैसा बोलता है
जब रोती हैं रातें
ज़ज़्बात पिघलते हैं
नही होते हैं अपने
जब हालात बिगड़तें हैं
वक़्त तब अपनों के राज़ तौलता है
सच है कि
पैसा बोलता है
रातों-रात जब चमक उठे किस्मत के सितारें
उठाकर जमीं से 
मुझे जो फ़लक पर बिठाते
आये नयें रिश़्तों के
मिलने नये तरानें
सच कहते है लोग
भूलों तुम गुज़रे ज़मानें
पैसा ही है जो हर तार जोड़ता है
बिल्कुल सच है ये कि
#पैसा बोलता है।

*****************
Avatar
         स्निग्धा रूद्र 
      धनबाद , इंडिया 

No comments

Powered by Blogger.