Header Ads

नये जमाने की होली

नये जमाने की होली
अब होली मनाने के पुराने तरीके भूलने लगे हैं  !
चहूँओर नये जमाने के नये रिवाज छाने लगे हैं !

कहाँ गया पहले वाला स्नेह-सोहाद्र -भाईचारा ,
लगता ज्यों त्याग उसे राग नया अलापने लगे हैं !

पहलें सा त्यौहार का उत्साह नजर आता नही, 
लगता खुशियों के अंदाज नये तलाशने लगे है!

बेजान और फीकी सी लगने लगी मुख की हँसी ,
मुखोटे से चेहरे भाव भी अब नकली सजाने लगे हैं !

कहीं नजर नही आती है पहले वाली एकसूत्रता, 
मतैक्यता अभाव में होली भी कई जलाने लगे हैं !

क्यों हो गई पत्नोन्मुखी सी पुरातन अखंड परम्परा, 
अब संभालते नही बल्कि एक दूजे को गिराने लगे हैं !

छल,दंभ, पाखण्ड का छाया है ये कैसा बोलबाला ?
इसे आचरण में उतार क्यों व्यापार इसका बढाने लगे हैं !

क्यों होने लगा है ऐसा अभाव परोपकारिता का ?
स्वार्थपरायण लोलुप जन पाप क्यों कमाने लगे हैं ? 

येन -केन प्रकारेण  सबका बस मतलब सिद्ध हो, 
फिर जैसे भी हो बाधा को राह से लुढकाने लगे है !

प्रयासरत रहते हैं सुविधाभोगिता "सीमा" पाने में, 
अपनी नापसंदगी से तो पुरजोर पीछा छुटाने लगे हैं !

************************************
Avatar
स्वरचित मौलिक रचना --सीमा लोहिया 
झुंझुनू (राजस्थान)  

No comments

Powered by Blogger.