Sunday, 11 February 2018

काश्मीर पर क्यों सब चुप हैं?

Posted by मंगलज्योति at February 11, 2018 0 Comments

MJImage#01
काश्मीर पर क्यों सब चुप हैं?
बलिदानी ना दिखते हैं।
विधवाओं के क्रन्दन स्वर को,
मूक बने बस सुनते हैं।

फटी जींस का जेब दिखाते,
जनता को बस ठगते हैं।
सत्ता के भोगी शासक बन,
गद्दारों संग दिखते हैं।

लड़ते मरते वीर जवानों पर,
रपट बेशर्मी करते हैं।
सत्ता की जोड़ी ना बिछुड़े,
ढोंग अनेकों रचते हैं।

कटु निन्दा चिन्ता बस करते,
दोहरा चेहरा रखतें हैं।
अमर शहीदों के शव को भी,
वोट नजर बस लखते हैं।


MJImage#02
कन्धा देने इन वीरों को,
फुर्सत नहीं ये पाते हैं।
अगर कहानी दादरी होती,
आँसू सभी बहाते हैं।

कश्मीर सुलगता सुलगे लेकिन,
निर्पेक्ष सदा दिखलाते हैं।
कश्मीरी विस्थापित क्यों हैं?
केवल चुप रह जाते हैं।

सत्ता पाने के लालच में-
भीरू बने दिखलाते हैं।
तुष्टिकरण की नयी जुगत में,
सेना को मरवाते हैं।

देश से बढ़कर सत्ता प्यारी-
सावधान कर जाते हैं।
स्वाभिमान बिन पाते सबको,
जिसकी सत्ता लाते हैं।।

**************










राकेश कुमार पाण्डेय
सादात,गाजीपुर

आप भी अपनी कविता, कहानियां ,लेख अन्य रोचक तथ्य हमसे फेसबुक /ट्विटर ग्रुप में शेयर या
इस Email👉 mangaljyoti05@outlook.com पर भेज सकते हैं !

अपडेट प्राप्त करे

नए लेख के लिए सब्सक्राइब करिये ,हम कभी भी आपका ईमेल पता साझा नहीं करेंगे.

0 comments:

समाज उत्थान हेतु दान पात्र

Subscribe

Archive

Translate

Views

Copyright©2017 All rights reserved मंगलज्योति

back to top