Friday, 23 March 2018

मैं मेरा दिल ....

Posted by मंगलज्योति at March 23, 2018 0 Comments

MJImage#01

उसने नजरें मिली ये जुल्म हों गया
अच्छा खासा था मैं बेशर्म हो गया।।

आंख उठती नही थी कभी भी कंही
उनको देखा तो ये भी चलन खो गया।।

आंख उठने लगी नजरें चलने लगी
एक क्षण में ये यारों गजब हो गया।।
Main Mera dil
देखते देखते उठ के वो चल दिये
और बूत सा खड़ा मैं वही रह गया।।

जिन्दगि में मुझे आज ऐसा लगा
मेरा दिल जैसे मुझ से अलग हो गया।।

रात ऐसी ना थी कल तलक आयी जो
आज नींदों को मेरी ये क्या हो गया।

रात की स्याही मुझको डराने लगी
भोर की रोशनी से दिल जल गया।।

मेरे अन्दर ही है एक समुन्दर उठा
दो किनारों सा मैं मेरा दिल हो गया।।

किसकी अब मैं सुनु अब ये क्या हो गया
मेरा दिल बे वज़ह है कंही खो गया।।

ना चाहूं मगर चल पड़ा हूँ उधर
जिन गलियों में मेरा जहाँ खो गया।।

एक नजर देखने की उन्हें चाहत लगी
देख कर फिर फिर देखूं ये क्या हो गया।।

क्या यही प्यार है क्या यही है वफ़ा
के खुद से ही खुद अब मैं जुदा हो गया।।

अब क्या मैं करूँ कोई मुझको बता
उनका चेहरा ही अब तो खुदा हो गया।।

************************










प्रदीप सुमनाक्षर
Delhi ,India

आप भी अपनी कविता, कहानियां ,लेख अन्य रोचक तथ्य हमसे फेसबुक /ट्विटर ग्रुप में शेयर या
इस Email👉 mangaljyoti05@outlook.com पर भेज सकते हैं !

अपडेट प्राप्त करे

नए लेख के लिए सब्सक्राइब करिये ,हम कभी भी आपका ईमेल पता साझा नहीं करेंगे.

0 comments:

समाज उत्थान हेतु दान पात्र

Subscribe

Archive

Translate

Views

Copyright©2017 All rights reserved मंगलज्योति

back to top