Sunday, 1 April 2018

खाली बेकसूरी बा इहाँ...

Posted by मंगलज्योति at April 01, 2018 0 Comments

MJImage#01
साँच पर बा आँच, खाली जी हजूरी बा इहाँ  !
चाहे जइसे होखे परिवर्तन जरूरी बा इहाँ  !!

पिस रहल बा धर्म के आ जाति के चक्की में लोग !
आदमी से आदमी में , आजो दूरी बा इहाँ !!

आँक लीं कतना ऊँचाई पर,सियासत के बा गाँव !
मुँह में बाटे राम बगल में, सब छूरी बा इहाँ !!

का भला नइखे कि छछनीं,हमरा जब संतोष बा !
जिन्दगी भर के इहे,अरजल मजूरी बा इहाँ !!

आदमी के रूप-रेखा,नेत बा जौहर के साथ !
बस इहे बा जुर्म, खाली बेकसूरी बा इहाँ !!

********************************

#Dr_Jauhar_Safiyabadi 
 Bihaar, India

आप भी अपनी कविता, कहानियां ,लेख अन्य रोचक तथ्य हमसे फेसबुक /ट्विटर ग्रुप में शेयर या
इस Email👉 mangaljyoti05@outlook.com पर भेज सकते हैं !

अपडेट प्राप्त करे

नए लेख के लिए सब्सक्राइब करिये ,हम कभी भी आपका ईमेल पता साझा नहीं करेंगे.

0 comments:

समाज उत्थान हेतु दान पात्र

Subscribe

Archive

Translate

Views

Copyright©2017 All rights reserved मंगलज्योति

back to top