Friday, 13 April 2018

रिश्तों में रवायत बनी रहे

Posted by मंगलज्योति at April 13, 2018 0 Comments


MJImage#01

पास रहे या दूर रिश्तों में रवायत बनी रहे !
अपनों पर अपनों की हिदायत बनी रहे !!

देखो ज़रा भूलाकर ,नफरत को दिलों से !
एक दूसरे पर थोड़ी सी इनायत बनी रहे !!

लूटपाट से कब खत्म हुई ,मुफलिसी यारों !
इंसानों में इंसानियत की शराफत बनी रहे !!

बदज़ुबानी का जवाब बदज़ुबानी तो नही !
गुस्से में भी ज़ुबा पर तेरे,लियाक़त बनी रहे !!

छोड़ कर वहशियत ,अब नेक राह चल !
तेरे वजूद पर,ख़ुदा की हिमायत बनी रहे !!

*****************************











Vandana Sharma

आप भी अपनी कविता, कहानियां ,लेख अन्य रोचक तथ्य हमसे फेसबुक /ट्विटर ग्रुप में शेयर या
इस Email👉 mangaljyoti05@outlook.com पर भेज सकते हैं !

अपडेट प्राप्त करे

नए लेख के लिए सब्सक्राइब करिये ,हम कभी भी आपका ईमेल पता साझा नहीं करेंगे.

0 comments:

समाज उत्थान हेतु दान पात्र

Subscribe

Archive

Translate

Views

Copyright©2017 All rights reserved मंगलज्योति

back to top