Friday, 13 April 2018

तेरे दिल के मुहल्ले में मेरा भी घर हो जाये

Posted by मंगलज्योति at April 13, 2018 0 Comments



MJImage#01
तेरे दिल के मुहल्ले में मेरा भी घर हो जाये !
के यारों जिन्दगि अपनी सुकून से बसर फिर हो जाये !!

तेरी जुल्फों की छांव में फिर खटिया डाल कर सोऊँ !
तेरे आँचल को जानम उम्र भर मैं ओढ़ कर सोऊँ !!

तेरे आंखों के काजल से फिर से भाग्य में लिखूं !
तेरी पलकों के साये में मजा दिन रात मैं चखूं !!

तेरी होठों की लाली से आँख सूरज की लड़वाऊं !
सितारे ये जहां भर के जुल्फ तेरी में सजवाऊँ !!

तेरे दिल के मुहल्ले में झूले उल्फत के डलवाऊं !
तुझसे मिलने को गले यारां रोज ईद होली मैं मनवाऊँ !!

तेरे माथे के चंदन से रेख माथे की मैं बदलूं !
तेरी आँखों के सब कलमों ओर आयातों को मै पढ़लूं !!

तुम्हारे जिस्म की खुशबू मुझे हर दम बहकाती है !
तुम्हे पाने की ये चाहत जमाने से लड़ाती है !!

तुम्हरी बातों का जादू यूँ सर चढ़ कर है अब बोले !
कभी मैं डोलूं कभी मन डोले कभी सारा जहां डोले !!

*********************************










Pradeep Sumnakshar
Delhi , India

आप भी अपनी कविता, कहानियां ,लेख अन्य रोचक तथ्य हमसे फेसबुक /ट्विटर ग्रुप में शेयर या
इस Email👉 mangaljyoti05@outlook.com पर भेज सकते हैं !

अपडेट प्राप्त करे

नए लेख के लिए सब्सक्राइब करिये ,हम कभी भी आपका ईमेल पता साझा नहीं करेंगे.

0 comments:

समाज उत्थान हेतु दान पात्र

Subscribe

Archive

Translate

Views

Copyright©2017 All rights reserved मंगलज्योति

back to top