Wednesday, 6 June 2018

बेनाम हो तुम

Posted by मंगलज्योति at June 06, 2018 0 Comments

" बेनाम हो तुम "
*************

बेनाम हो तुम 
शिथिल हो गई परछाई मेरी,
न कोई हलचल है !
एक एहसास बन लिपटे हो,
न कोई हासिल है !!
दूर नहीं हो मुझसे मगर फिर भी,
जाने क्युँ कुछ खाली सा है !
मेरी रूह से सिमटा तेरा एहसास,
आज भी खूशबु की तरह मुझे महका जाता है !!
बेनाम सा हमारा रिस्ता आज भी,
ढुढ़ता है तुम्हे !
हाँ यही कही हो तुम आज भी,
उस चाँद मे !!
जिसकी छिटकती चाँदनी मे,
अक्सर मेरा अक्स देखा करते थे तुम !
सब बदल गया मगर बदली नहीं मै,
लिपटी है तेरी रूह !!
आज भी तन से मेरी,
एक मीठा सा एहसास हो तुम
हाँ " बेनाम हो तुम "।

*************************









स्निग्धा रूद्रा
हथुआ , इंडिया 

आप भी अपनी कविता, कहानियां ,लेख अन्य रोचक तथ्य हमसे फेसबुक /ट्विटर ग्रुप में शेयर या
इस Email👉 mangaljyoti05@outlook.com पर भेज सकते हैं !

अपडेट प्राप्त करे

नए लेख के लिए सब्सक्राइब करिये ,हम कभी भी आपका ईमेल पता साझा नहीं करेंगे.

0 comments:

समाज उत्थान हेतु दान पात्र

Subscribe

Archive

Translate

Views

Copyright©2017 All rights reserved मंगलज्योति

back to top