Tuesday, 3 July 2018

जब संस्कार हों खतरे में

Posted by मंगलज्योति at July 03, 2018 0 Comments

जब संस्कार हों खतरे में 
सूना सा कोलाहल हो
तब खुद चिल्लाना पड़ता है ,
जब संस्कार हों खतरे में 
तब कलम उठाना पड़ता है 

तुम अपने फूहड़ गीतों से 
मानवता को झुठलाते हो ,
अपनी बोली को बेच बेच 
फिर भी नायक कहलाते हो ।

सुर की देवी को भूल गए 
तब याद दिलाना पड़ता है ,
जब संस्कार हों खतरे में 
तब कलम उठाना पड़ता है ।

निर्लज्ज हुए निर्बाध हुए 
जाने कितने उन्माद हुए,
तेरे गीतों से नव अंकुर
लाखों जीवन बर्बाद हुए 

सात सुरों की थपकी से
तब तुम्हें जगाना पड़ता है ,
जब संस्कार हों खतरे में 
तब कलम उठाना पड़ता है ।

लोक लाज सब ताक रखे
तुम आये दिन बाजार बिके ,
फूहड़ता के बाजारों में 
अपनी भाषा को बेच चुके 

श्लील ,सुगंधित गीतों से 
तब जग महकाना पड़ता है ,
जब संस्कार हों खतरे में 
तब कलम उठाना पड़ता है ।।

*************************








नीरज पाण्डेय , लखनऊ 


आप भी अपनी कविता , कहानियां , लेख लिखकर हमसे शेयर कीजिये !

आप भी अपनी कविता, कहानियां ,लेख अन्य रोचक तथ्य हमसे फेसबुक /ट्विटर ग्रुप में शेयर या
इस Email👉 mangaljyoti05@outlook.com पर भेज सकते हैं !

अपडेट प्राप्त करे

नए लेख के लिए सब्सक्राइब करिये ,हम कभी भी आपका ईमेल पता साझा नहीं करेंगे.

0 comments:

समाज उत्थान हेतु दान पात्र

Subscribe

Archive

Translate

Views

Copyright©2017 All rights reserved मंगलज्योति

back to top